शाहीनबाग में सी ए ए, एनआरसी के विरोध में बैठ प्रदर्शनकारी फिलहाल में हटने के मूड में नहीं

0
2

शाहीनबाग में सीएए, एनआरसी के विरोध में बैठ प्रदर्शनकारी फिलहाल हटने के मूड में नहीं दिख रहे। प्रदर्शन के 45वें दिन यानी बुधवार को टेंट को और 200 मीटर तक बढ़ा दिया गया। यहां दिनभर चहल-पहल रही। बड़ी संख्या में लोग धरनास्थल पर पहुंचे। एक तरफ की सड़क को खोलने को लेकर कई दिनों से पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच बातचीत भी बंद है।

बताया यह भी जा रहा है कि प्रदर्शनकारियों में से कुछ लोग वहां से हटने को तैयार हैं। लेकिन, प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व किसी एक नेता व संगठन के पास न होने के कारण ऐसा नहीं हो पा रहा। हालांकि इस बारे में पूछने पर प्रदर्शनकारियों ने ऐसी किसी बात से इनकार किया है। उनका कहना था कि हम कानून पर रोक लगने से पहले नहीं हटेंगे।

50 फीट की पेंटिंग
धरनास्थल के नजदीक एक स्थानीय मकान की दीवार पर 50 फीट की पेटिंग बनाई जा रही है। इसमें एक महिला के चेहरे को दर्शाया गया है। जो सीएए, एनआरसी का विरोध कर रही है। उसके आसपास सीएए, एनआरसी के विरोध में नारे लिखे जाएंगे। इसे पूरा होने में कुछ दिन लगेंगे।

पोस्टकार्ड भरवाए 
प्रदर्शनस्थल पर कुछ छात्र वहां पहुंच रहे लोगों से सीएए, एनआरसी के विरोध में पोस्टकार्ड भरवा रहे हैं। इसे शीर्ष अदालत में रजिट्रार के नाम भेजा जाएगा। पोस्टकार्ड पर अल-हज मलिक अल-शाजाज जो मैल्कम एक्स के रूप में प्रसिद्ध है का चित्र बना हुआ था। मैल्कम एक अमेरिकी मंत्री और मानवाधिकार कार्यकर्ता थे, जो नागरिक अधिकार आंदोलन के दौरान एक लोकप्रिय व्यक्ति रहे थे।

टोलियों में प्रदर्शन 
जमिया, जेएनयू के छात्र, प्रोफेसर समेत दिल्ली-एनसीआर से लोग प्रदर्शन स्थल पर पहुंचे। छात्र जगह-जगह बैठकर नारेबाजी  कर रहे थे। मंच से कई वक्ताओं ने प्रदर्शनकारियों को संबोधित किया। हंसराज समेत अन्य कॉलेजों के छात्र ने नाटक और गीत प्रस्तुत कर लोगों को संविधान के प्रति जागरूक किया। 

कई बार बिजली गुल 
धरनास्थल पर रात में बिजली गुल हुई तो प्रदर्शनकारियों ने मोबाइल की लाइट में नारेबाजी लगाई। हाथ में मोबाइल लेकर इन्कलाब जिंदाबाद के नारे लगाए। लोगों का आरोप है कि रोज रात में पुलिस के दबाव में उनकी बिजली काट दी जाती है। बुधवार को दिन में भी धरनास्थल की बिजली गुल रही, जिसे लोगों ने पुलिस द्वारा हटाने का एक तरीका बताया।

भारतबंद के समर्थन में आसपास की दुकानें बंद
शाहीनबाग में बुधवार को भारत बंद के समर्थन में प्रदर्शनस्थल से चंद कदमों की दूरी पर स्थित हाईटेंशन रोड की मार्केट दिनभर बंद रही। दिनभर राजनीतिक पार्टिंयों के कार्यकर्ताओं की चहलकदमी यहां देखी गई। हालांकि, कोई मंच तक नहीं गया। वहीं, 30 जनवरी को राजघाट से शांतिवन के बीच में एनआरसी के विरोध में मानव श्रृंखला निकाले जाने की तैयारी है।

चुनाव नजदीक आते ही प्रदर्शनस्थल पर भी सरगर्मियां तेज हो गई हैं। मंगलवार को जिस शख्स से पिस्टल बरामद हुई लोगों ने उसका एक पार्टी से संबंध बताते हुए उन्हें बदनाम करने की साजिश बताई। वहीं, आरोपी ने खुद को किसी पार्टी से न होने का दावा किया। बुधवार को प्रदर्शनस्थल के आसपास अलग-अलग पार्टिंयों के कार्यकर्ता अपने प्रत्याशी और पार्टी का प्रचार करते नजर आए। मंच तक कोई नहीं गया। धरनास्थल के आसपास के लोगों में पर्चें बांटे गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here