नागरिकता कानून पर प्रदर्शन के दौरान जामिया के छात्रों और पुलिस के बीच झड़प का मामला आया सामने

0
19

New Delhi : ( हर्ष कुमार ) सुप्रीमो लाइव न्यूज़ इंडिया, वरिष्ठ संवाददाता।

नागरिकता संशोधन कानून के जामिया विश्वविद्यालय और उसके आस-पास के इलाकों रविवार को भी प्रदर्शन जारी रहा। नागरिकता (संशोधन) कानून का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों की जामिया मिल्लिया इस्लामिया के समीप न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में पुलिस के साथ झड़प हो गई, जिसमें प्रदर्शनकारियों ने डीटीसी की चार बसों और दो पुलिस वाहनों में आग लगा दी। झड़प में छात्रों, पुलिसकर्मियों और दमकलकर्मी समेत करीब 60 लोग घायल हो गए। पुलिस ने हिंसक भीड़ को खदेडने के लिए लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले छोड़े लेकिन उन पर गोलियां चलाने की बात से इनकार किया है। जामिया मिल्लिया इस्लामिया के छात्रों और पुलिस के बीच हुई हिंसक झड़प से तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गई। सड़कों पर आगजनी और झड़प के बाद दिल्ली पुलिस जामिया विश्वविद्यालय के परिसर में घुस गई जहां हिंसा में कथित तौर पर शामिल होने को लेकर कई लोगों को हिरासत में ले लिया। फिर बाद में जामिया के छात्रों ने पुलिस की इस कार्रवाई के खिलाफ पुलिस हेडक्वार्टर पर देर रात तक प्रदर्शन किया। तो चलिए जानत हैं जामिया के छात्रों और पुलिस के बीच हिंसक झड़प में क्या-क्या हुआ…
जामिया हिंसक झड़प मामले में कब क्या-क्या हुआ:

  1. नागरिकता कानून के खिलाफ रविवार की शाम में न्यूफ्रेंड्स कॉलोनी के पास बसों में तोड़फोड़ की खबर आई। जिसके बाद दिल्ली के ओखला, जामिया और कालिंदी कुंज वाले इलाके में सरकारी बसों में आग लगाने की घटना सामने आई।
  2. जामिया छात्र संघ ने बयान जारी कर नागरिकता अधिनियम के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा से खुद को अलग कर लिया है। छात्रों के समूह ने आरोप लगाया कि प्रदर्शन में”कुछ खास तत्व शामिल हो गए और उन्होंने इसे ”बाधित किया। छात्रों ने बताया कि उनके कई साथियों को विश्वविद्यालय के पुस्ताकालयों में छिपना पड़ा। उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस वहां भी घुस गई और उन पर हमला किया।
  3. जामिया मिल्लिया इस्लामिया में पुलिस की कार्रवाई के खिलाफ ”आपात प्रदर्शन के तौर पर रविवार देर रात को सैकड़ों छात्र आईटीओ पर स्थित दिल्ली पुलिस के पुराने मुख्यालय पर पहुंच गए।
  4. प्रदर्शनकारियों ने पुलिस के खिलाफ नारे लगाए और विश्वविद्यालय में घुसने वाले अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। जेएनयू छात्र संघ के इस प्रदर्शन में जामिया, अंबेडकर विश्वविद्यालय के और अन्य छात्र भी शामिल हो गए। प्रदर्शनकारियों ने मुख्यालय जाने वाली सभी सड़कों को अवरुद्ध कर दिया। 
  5. हिंसा और दिल्ली मेट्रो के कई स्टेशन बंद होने के कारण लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन ने न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी के समीप हिंसक प्रदर्शन के मद्देनजर कई घंटों तक 13 स्टेशनों के प्रवेश एवं निकास द्वार बंद कर दिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here