खिचड़ीपुर 5 ब्लॉक मे प्राइमरी-स्कूल के पास लग रहे मोबाइल-टावर को हटवाए दिल्ली सरकार ।

0
600

खिचड़ीपुर 5 ब्लॉक मे प्राइमरी-स्कूल के पास लग रहे मोबाइल-टावर को हटवाए दिल्ली सरकार ।दिल्ली :- (अनीता गुलेरिया) खिचड़ीपुर 5 ब्लॉक के इलाके 5/6,7,8 सुभाष-मार्केट के एक निवासी द्वारा अपने घर की छत पर मोबाइल-टावर लगवाने का काम रात को भी करवाना लगातार जारी है । जबकि इस मुद्दे को लेकर आसपास के लोगो द्वारा सख्त-एतराज और लिखित शिकायत हर प्रशासन-विभाग एमसीडी-कमीश्नर,एसडीएम ऑफिस और विकास-भवन में पब्लिक-ग्रेवनेस केस सुनवाई पेंडिंग में चलने के बाबजूद भी उस घर द्वारा मोबाइल-टावर को लगाने का काम दिन-रात करवाना जारी है । जिसके विरोधास्वरूप आसपास के लोगों ने कई बार प्रदर्शन भी किए । वहां पहुंची मीडिया की टीम समक्ष लोगों ने भारी रोष व्यक्त कर अपनी इस मुख्य समस्या का जिक्र करते हुए बताया,हम पिछले साल से इस मोबाइल-टावर का विरोध कर रहे हैं । टावर से निकलने वाले खतरनाक रासायनिक-प्रकरणों से कैंसर जैसी गंभीर और कई तरह की हृदय-बीमारियों का खतरा बना हुआ है । इसलिए हम सभी इसका लगातार विरोध करते आ रहे हैं, लेकिन आज तक प्रशासन-विभाग से झूठा-आश्वासन के सिवाय हमें कुछ नहीं मिला । जहां टावर लग रहा है,वहा से कुछ दूरी पर ही नगर-निगम विभाग का प्राइमरी स्कूल भी है । आखिर निगम-विभाग छोटे मासूम बच्चों की जिंदगीयों से खिलवाड़ कैसे कर सकता है ? खतरनाक रेडियम का छोटे बच्चों पर बहुत जल्दी से बुरा प्रभाव पड़ता है । हम लोगो द्वारा बार-बार विरोध करने पर कल्याण पुरी थाना पुलिस हम पर ही लाठी-चार्ज करते हुए, थाने ले जाकर मारपीट करते हुए थाने मे बंद कर देती है । इस तरह अवैध-तरीके से चल रहे काम का मुख्य-दोषी हमारे देश की लचर-कानून व्यवस्था नहीं तो और कौन ? तभी तो इन जैसे लोग सरेआम कानून की धज्जियां उड़ाने में लगे रहते हैं । क्या हमें सुरक्षा से जीने का अधिकार नहीं है ? हमारी सरकार सुगमता के तहत अवैध-कामो को रोकने के लिए बड़े-बड़े दावे करती है लेकिन धरातल पर कुछ भी ना होने के कारण,सरकार के सारे दावे खोखले व झूठे नजर आते हैं । आज तक किसी प्रशासन ने हमारी बात पर कोई ध्यान नहीं दिया है । कोर्ट में मामले के चलने के बावजूद भी रात मे टावर का काम लगातार जारी है । लोकतंत्र-देश के आजाद नागरिक होने के नाते क्या हमें सरकार के आगे अपनी गम्भीर समस्या को उजागर करने का भी अधिकार नहीं है ? सभी निवासियों ने भारी रोष-व्यक्त करते हुए कहा अब हमें किसी भी प्रशासन-विभाग पर कोई भरोसा नही रह गया है । अब हमारी सरकार से यही गुहार है इस समस्या को अति-गंभीरता से लेते हुए सिर्फ एक आदमी के लिए हजारों लोगों की जिंदगियो से खिलवाड़ न किया जाए । हमारे द्वारा कई बार लिखित शिकायत लगाने के बावजूद प्रशासन-विभाग हाथ पर हाथ धरे कुंभकरनी नीद सो रहा है । क्या यह है हमारा स्वच्छ व स्वस्थ भारत ? जब देश की जनता बीमार होगी,तो देश का विकास कैसे संभव है, इसलिए हमारी सरकार से गुजारिश है,मौत के मुंह में जाने से पहले ही हजारों-जिंदगियों के संरक्षण के लिए जितना जल्दी हो सके, सख्त से सख्त निर्देश देते हुए इस मोबाइल टावर को यहां से तुरंत हटवाया जाए । ऐसे मे दिल्ली सरकार स्कूली-बच्चों के भविष्य को लेकर बड़ी-बड़ी बातें करती है, देखना यह है, मोबाइल-टावर से निकलते खतरनाक-रेडियम से बच्चों की जिंदगियो को संरक्षण-प्रदान कर करते हुए इस मोबाइल-टावर को कितना जल्दी हटावाती है । दिल्ली की जनता को संरक्षण-प्रदान हेतु सबसे पहली जिम्मेवारी दिल्ली सरकार की बनती है ।

मोबाइल-टावर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here